पीएम मोदी के भाषण के बाद , फिर गोदी मीडिया उस भाषण को जनता को समझाता है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कल रात 8 बजे देश को संबोधित करते हैं। लेकिन संबोधित करते वक्त उनके 18 मिनट भारत के इतिहास में ही निकल गए लोग इंतजार कर रहे थे कि प्रधानमंत्री कई मुद्दों पर बात करेंगे लेकिन उनके 18 मिनट भारत के इतिहास समझाते समझाते ही निकल गए। 19 मिनट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 20 लाख करोड़ रुपए के पैकेज की घोषणा करते हैं।

उससे पहले उन्होंने और भी बातें बताएं कि हमारे देश में पीपीई किट के बनने लगी मास्क 95 बनने लगे। और कोरोना वायरस से पहले भारत में पीपीई का निर्माण नहीं होता था। लेकिन सच यह है कि भारत में पीपली गेट का निर्माण होता था और निर्माण करने वाली कंपनी का नाम ईबोला था। लेकिन इबोला से पहले इस कंपनी का नाम कुछ और था। और यह कंपनी पीपीई किट बना रही थी और निर्यात भी कर रही थी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दूसरी बड़ी बात कही थी कि 31दिसंबर 2000 को जो वाई टू के संकट आया था उससे दुनिया को भारत के एक्सपर्टो ने निकाला था। लेकिन वाई2के जो संकट था। वह संकट एक तरीके से बनाया हुआ था फेक न्यूज़ था। और उस न्यूज पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाषण दे बैठे। अमेरिका और ब्रिटेन के लोगों ने मिलकर इस संकट को अफवाह के रूप में खड़ा किया।

ब्रिटेन के पत्रकार निक डेविस ने अपनी किताब में लिखा है कि इस अफवाह पर 600 बिलियन डॉलर खर्च किए गए और इस अफवाह में दावा किया गया कि उस दिन कंप्यूटर चलना बंद हो जाएंगे बिजली नहीं चलेगी तो उस दिन लोग बहुत परेशान रहे लोगों ने सोचा कहीं ऐसा ना हो बिजली बंद हो जाए तो उन्होंने जनरेटर पूरे दिन चलाया।

इस संकट में और भी बड़ी-बड़ी बातें कही गई कि 31 दिसंबर को जब यह संकट आएगा तब परमाणु बम अपने आप चलने लगेंगे न्यू क्लियर मिसाइलें अपने आप चलने लगेंगी दुनिया में तबाही आ जाएगी एक बहुत बड़ा संकट खड़ा हो जाएगा । लेकिन ब्रिटेन के पत्रकार निक डेविस ने अपनी किताब में लिखा कि वास्तविक में अगर माना जाए तो यह सिर्फ अफवाह थी और इस पर बिलियन डॉलर खर्च किए गए। लेकिन यह एक तरीके का होस्ट था। और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस फेक न्यूज़ पर आज जब देश कोरोनावायरस संक्रमण से लड़ रहा है तब पीएम मोदी ने इस पर भाषण दे दिया।

जब भारत देश में कोरोना वायरस नहीं था पर प्रधानमंत्री ने कभी भी अर्थव्यवस्था को लेकर राष्ट्र को संबोधित नहीं किया क्या हमारी अर्थव्यवस्था पहले से ही अच्छी चल रही थी। सच तो यह है कि हमारे देश की अर्थव्यवस्था बिल्कुल फेल हो रही थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने N95 मास्क का भी जिक्र किया। लेकिन हकीकत तो यह है कि N95 मास्क तो बहुत दूर लोगों को साधारण मास्क मिलना मुश्किल हो रहे हैं। कई लोगों ने घर पर मास्क सिलकर गरीबों में बांटे थे।

लेकिन सबसे बड़ी बात तो यह है कि जब भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राष्ट्र को संबोधित करते हैं तब उसके बाद गोदी मीडिया उस भाषण को अपनी जुबान में उच्चारण करके समझाता है प्रधानमंत्री नरेंद्र ने कई बार राष्ट्र को 8 बजे संबोधित किया है। और उसके बाद गोदी मीडिया के पत्रकार इसका उच्चारण करके अंध भक्तों को समझाते रहते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब नोट बंदी का फैसला ऐसे ही लिया था उसके बाद गोदी मीडिया के एंकर समझा रहे थे कि काला धन आएगा डीजल पेट्रोल सस्ता होगा नोट में चिप होगी कालाबाजारी रुकेगी

नोट में चिप लगी होने के कारण कोई भी काला बाजार पैसा नहीं छुपा पाएगा वह पैसा गवर्नमेंट पकड़ लेगी और महंगाई रुकेगी डीजल पेट्रोल 30 रुपए के आसपास बिकेगा। और प्रधानमंत्री को उस वक्त रैलियों में सुना जा सकता था कि महंगाई कम होनी चाहिए कि नहीं होनी चाहिए यह सवाल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जनता से पूछते थे।

लेकिन आप इस भाषण में अगर गौर करेंगे तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इतिहास ही सुनाया है इतिहास सुनाने के बाद इन्होंने 20 लाख करोड़ रुपए के पैकेज की घोषणा की जिससे देश को आर्थिक मदद मिलेगी। और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस आर्थिक पैकेज का नाम आत्मनिर्भरता पैकेज रखा। और साथ में यह भी कहा गया कि जल्द ही वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण इस पैकेज को विस्तार से बताएंगे कि कैसे इस रुपए का इस्तेमाल किया जाएगा। हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इवेंट बहुत पसंद है। जैसे ही उन्होंने सोचा कि राहत पैकेज की घोषणा करनी है तो कल रात 8 बजे इतिहास सहित इस राहत पैकेज की घोषणा कर दी।