तबलीगी जमात के नाम पर मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाने के लिए मीडिया में प्रसार किए गए थे पुराने वीडियो

जब भारत में कोरोनावायरस ने कदम रखा उसके बाद पहले जनता कर्फ्यू लगा फिर 25 मार्च को पूरे भारत में लॉक डाउन कर दिया गया साथ ही यह संदेश भी दिया गया कि जो जहां है वही रहे मोदी जी ने अपने भाषण में कहा था कि आज रात 12:00 बजे के बाद पूरे भारत में लोक डाउन है कोई अपने घरों से बाहर ना निकले जो जहां है वही रहे ऐसे में दिल्ली में निजामुद्दीन में तबलीगी जमात का कार्यक्रम चल रहा था और जैसे ही तबलीगी जमात को यह पता लगा कि पूरे भारत में लोक डाउन हो गया है बे उसी में वहीं रुके रहे निकलने का कोई साधन नहीं था 25 मार्च के बाद जब भारत में लॉक डाउन था और भारत में कोरोनावायरस के मामले बढ़ रहे थे तब हमारे भारत में एकता की निशानी देखी जा सकती थी मीडिया पर भी ऐसी कोई खबर नहीं दिख रही थी जिसमें हिंदू मुस्लिम प्रोपेगेंडा हो सब कुछ सही चल रहा था कि अचानक निजामुद्दीन की तबलीगी जमात की खबर मीडिया में फैलती है मीडिया अपने पुराने धंधे पर लौट आता है वह अपने प्राइम टाइम में अपने शो में अलग अलग तरीके से मुस्लिम धर्म को टारगेट करने लगे पुराने वीडियो दिखाएं । जिनका तबलीगी जमात से कोई लेना-देना नहीं था मीडिया अपने सारे हथकंडे लेकर तबलीगी जमात को यानी मुस्लिम विशेष समुदाय को टारगेट करने लगे सुदर्शन न्यूज के एंकर चौहनके ने इसको करो ना जिहाद बताया ।

 

जब करो ना वायरस के मामले भारत में बढ़ रहे थे तब मीडिया में बिल्कुल शांति थी हिंदू-मुस्लिम करने का बहाना भी बंद हो गया था पहले उन्हें न्यूज़ खोजना पढ़नी पड़ती थी मेहनत करनी पड़ती थी लेकिन जब से तबलीगी जमात का मामला सामने आया अब उन्हें कोई मेहनत करने की जरूरत भी नहीं पड़ती क्योंकि वह उस काम को पिछले 6 सालों से करते आ रहे हैं और उन्हें इस काम में तजुर्बा भी है। क्योंकि यह चाटुकार मीडिया ने पिछले 6 सालों में यही किया है जो यह तबलीगी जमात मुस्लिम समुदाय को टारगेट कर रहे हैं और इससे फायदा किसको होगा कि आप जानते ही हैं क्योंकि जब यह मुस्लिम समुदाय को टारगेट करेंगे तो कहीं ना कहीं इसका फायदा बीजेपी को जरूर होगा। पत्रकार से बात हुई थी जो एक टीवी के पत्रकार हैं उनसे हमारी बात हुई उन्होंने हमें बताया कि हम पर यह दबाव बनाया जा रहा है कि हम तबलीगी जमात का पाकिस्तान और आतंकवाद से जोड़ें और कुछ मीडिया चैनलों के संपादक इस काम में जुट भी गए हैं कहीं ना कहीं से इस तबलीगी जमात का पाकिस्तान आतंकवाद से जुड़ना चाह रहे हैं। तबलीगी जमात के वीडियो जो मुख्यधारा की मीडिया में प्रसारित किए जा रहे हैं उसमें कुछ वीडियो पुराने हैं। इन प्रसारित वीडियो को जब अल्ट न्यूज द पॉइंट द लॉजिक इंडियन लल्लनटॉप बीबीसी न्यूज़ ने पड़ताल की तो यह सारे वीडियो पुराने पाए गए एक वीडियो आपने देखा होगा सोशल मीडिया पर बहुत वायरल हो रहा है जिसमें कुछ मुस्लिम प्लेट चम्मच चाटते हुए दिख रहे हैं सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है यह तबलीगी जमात से संबंधित है और यह कोरोनावायरस फैलाना चाह रहे हैं