गुजरात के सूरत में भूख से परेशान है मजदूर

गुजरात के सूरत में दूसरे प्रदेशों के मजदूर यहां काम करने आए हुए थे जब पहले जनता कर्फ्यू लगा और फिर उसके बाद पूरे देश में लॉक डाउन कर दिया गया लॉक डाउन में यह गरीब मजदूर फंस गए इनके पास खाने पीने को पैसे नहीं है होटल मालिक ने भी इनको खाना देने से मना कर दिया भूख से परेशान हैं मालिक ने पैसे देने से भी इनकार कर दिया है इस लॉक डाउन मैं इनके पास रोजगार भी नहीं है। यह घर लौटे तो कैसे लौटे क्योंकि इनके पास घर लौटने के पैसे नहीं है उसके बाद कोई सवारी भी नहीं चल रही तो के सहारे यह लोग अपने घर लौट आए आखिरकार गुजरात सरकार इन पर ध्यान क्यों नहीं दे रही है और इस खबर से मुख्यधारा की मीडिया में एक बड़ी खामोशी दिखाई दे रही है।

गुजरात मॉडल  यह वही गुजरात है जिसकी चर्चा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश के हर प्रदेश में किया करते हैं यह वही गुजरात है जिसके कामों की वाहवाही करके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुख्यमंत्री से प्रधानमंत्री बने लेकिन इनके इसी गुजरात में यह मजदूरों से परेशान हैं यह अपने घर जाने को गुहार लगा रहे हैं और जब इनकी आवाज किसी ने नहीं सुनी तब यह लोग जमीन पर उतर आए क्योंकि गुजरात में सारी फैक्ट्री बंद है इनके मालिक ने भी इनको मदद देने से इनकार कर दिया ऐसे में तो यह जाएं तो जाएं कहां । यह लोग घर लौटना चाहते हैं लेकिन ना ट्रेन है ना बस है घर पर लौटे तो किस से लौटे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब चुनाव प्रचार किया था तब नरेंद्र मोदी ने अपने चुनाव प्रचार में इसी गुजरात का हर प्रदेश में प्रचार किया था उस प्रचार में नरेंद्र मोदी ने कहा था कि गुजरात में कोई भूखा नहीं सोता लेकिन आज यह मजदूर कई दिनों से भूखे सो रहे हैं इनके पास खाने को पैसे नहीं है। कार गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी इन मजदूरों का ख्याल क्यों नहीं रख पा रहे हैं क्यों यह लोग सड़कों पर उतर आए हैं और इस खबर को लेकर मीडिया में पूरी तरीके से सन्नाटा है मीडिया बिल्कुल खामोश है

2014 में लोकसभा चुनाव होने वाले थे तब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर भारतीय जनता पार्टी ने गुजरात मॉडल का विज्ञापन टीवी पर अखबारों में कराया था टीवी पर इस गुजरात मॉडल का बार-बार जिक्र किया गया था और मीडिया सत्ता की पिछलग्गू बनी हुई है इस मीडिया ने गुजरात मॉडल को बढ़ा चढ़ाकर दिखाया। ए वही गुजरात मॉडल है जब नमस्ते ट्रंप कार्यक्रम हुआ था तो ट्रंप की अगवानी में गरीबों को छुपाने के लिए एक दीवार खड़ी खड़ी कर दी गई थी जो बस्ती में झुग्गियों में झोपड़ियों में लोग रहते थे वह भी अचानक सोच में पड़ गए थे कि आखिरकार या यह दीवार कैसी बन रही है उनकी समझ में बाद में ही आया होगा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के लिए एक खास कार्यक्रम रख रहे हैं नमस्ते ट्रंप जिसमें गरीबों को छिपाया जा रहा है जब अमेरिका में हाउदी मोदी कार्यक्रम था तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुजराती भाषा में ही वहां कह कर आए थे कि सब चंगा सी

एक रिपोर्ट के मुताबिक गुजरात कोरोनावायरस संक्रमण को लेकर पर्याप्त टेस्टिंग भी नहीं कर पा रहा है क्योंकि आप जितनी ज्यादा टेस्टिंग करोगे उतनी ही ज्यादा पूर्णा संक्रमित मरीजों का पता लगा सकते हो कोरोनावायरस के आंकड़ों पर अगर हम गौर करें तो गुजरात तीसरा सबसे बड़ा राज्य है जहां कोरोना से लोग मारे गए हैं क्या यह है गुजरात मॉडल