गांव में नही हो रहा है लॉक डाउन का पालन

शहर में लॉक डाउन की वजह से शहर के मार्केट मॉल रेस्टोरेंट आदि सभी भीड़ वाले क्षेत्र बंद है अगर लोग बाहर निकल रहे हैं तो पुलिस के पीटने की वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है आप वीडियो में देख सकते हैं कि किस तरीके से पुलिस निकलते हुए लोगों को पीट रही है लेकिन लॉक डाउन का नियम सिर्फ शहरों में ही पालन होता दिख रहा है लेकिन गांव में नहीं शहर में लोग सोशल डिस्टेंस भी बना रहे हैं साफ-सफाई का ध्यान भी रख रहे हैं बाहर निकलने पर एहतियात बरत रहे हैं और एक दूसरे से 1 मीटर की दूरी भी बना रहे हैं लेकिन भारत के गांव में यह नियम पालन होते हुए नहीं दिखाई दे रहे हैं

एक हमारे पाठक ने हमें संदेश भेजना कि सर मैं गांव में रहता हूं मुझे नहीं लगता कि मेरे यहां लॉक डाउन है पूरे भारत में लोक डाउन की स्थिति है लेकिन मेरे गांव में ऐसा कुछ भी नहीं दिख रहा है सब नियमों की धज्जियां उड़ा रहे हैं शुरू शुरू में बाजारे नहीं लगी लेकिन पुलिस की कार्रवाई नहीं होने पर लोगों में हिम्मत है बढ़ गई हैं और अब धीरे-धीरे पकौड़ी समोसा चाट के ठेले लगाकर भीड़ बना रहे हैं और इसी भीड़ से कोई कोरोनावायरस संक्रमण व्यक्ति संपर्क में आया तो पता नहीं कितने लोगों को संक्रमित करेगा फिर और लोग पता नहीं कितने लोगों को संक्रमित करेंगे बाजार में एक दूसरे से लोग सपोर्ट भी जाते हैं बिगड़े इतनी हैं एक दूसरे में सोशल डिस्टेंस नहीं रख पाते और सब के मुंह पर एक ही शब्द होते हैं कि यह बीमारी अभी हमारे यहां नहीं है हम क्यों परेश करें यह शहर की बीमारी है हमें इस बीमारी से कोई लेना-देना नहीं लेकिन इनको यह पता नहीं है कि अगर कोई भी शहर से कोरोनावायरस संक्रमित अगर इनके संपर्क में आ गया तो यह खुद तो संक्रमित होंगे ही और अपने परिवार को भी संक्रमित कर लेंगे और फिर ना जाने कितने लोगों को और संक्रमित करेंगे क्योंकि गांव में सुरक्षा के इंतजाम नहीं होते हैं

उस पाठक ने हमें यह भी बताया कि मेरे यहां कम से कम 20 मेडिकल स्टोर है लेकिन किसी मेडिकल स्टोर पर ना तो मास्क है और ना ही किसी मेडिकल पर सैनिटाइजर है ना ग्लिप है हम क्या करें हम शहर जा नहीं सकते हमारे यहां यह 20 मेडिकल स्टोर हैं तो क्या इन पर सिर्फ सर के दर्द पेट के दर्द की दवा मिलेगी इस बीमारी से लड़ने के लिए हर देश ने अपने देश के हर क्षेत्र में कुछ ना कुछ इंतजाम किया है लेकिन हमारे देश में इस बीमारी से लड़ने के लिए बचने के लिए जिस मास्क जिस हैंड सैनिटाइजर की जरूरत है हमें भूल ही नहीं मिल रहा तो बताइए हम अपना बचाव कैसे करेंगे

हमें पाठक ने यह भी बताया

कई लोग शहर से पैदल चलकर आए हैं लेकिन वे चुपचाप अपने घरों में कैद हो गए हैं कोई भी व्यक्ति जांच कराने को नहीं जा रहा है यह सबसे बड़ी चिंता वाली बात है कि जो व्यक्ति बाहर से आ रहे हैं उन्हें जांच जरूर करानी चाहिए लेकिन ऐसा नहीं दिख रहा है बे लोग चुपचाप हम लोगों में घुल मिल जा रहे हैं क्या पता वह किस-किस से मिले होंगे कहीं ऐसा तो नहीं वो किसी कोरोनावायरस संक्रमित में संपर्क में आए हो और फिर मेरे गांव में भी यह बीमारी फैल सकती हैं मैंने लड़कों के साथ घुलमिल कर क्रिकेट मैच और वॉलीबॉल भी खेल रहे हैं मैंने पुलिस को भी सूचना दी लेकिन पुलिस ने भी इन लोगों पर कोई कार्यवाही नहीं की