क्या नोटों के चुने से फैल सकता है कोरोनावायरस आइए जानते हैं

भारतीय रिजर्व बैंक ने जल्दी एक सुझाव दिया है कि लोग नगद की बजाए डिजिटल पेमेंट लेनदेन शुरू कर दें और डिजिटल पेमेंट से भुगतान करें नोटों को छूने से बचें आरबीआई के महाप्रबंधक ने कहा है कि नकद राशि अगर कोरोना वायरस पीड़ित के हाथ से किसी स्वस्थ हाथ में जाती है तो संक्रमण फैल सकता है और हमें इससे बचने की तरकीब सोचनी चाहिए सबसे बेहतर तरीका यह है कि हमें भुगतान के लिए डिजिटल पेमेंट का उपयोग करना चाहिए जैसे पेटीएम इंटरनेट बैंकिंग भीम इनसे भुगतान करें और कोरोनावायरस से भी बचें

अगर कोई कोरोनावायरस पीड़ित उसके हाथ से करेंसी किसी स्वस्थ मनुष्य के हाथ में जाती है तो संक्रमित बैक्टीरिया उसके हाथ में चले जाएंगे अगर वह व्यक्ति अपने आप को साबुन से नहीं होता है तो व्यक्ति या उसके शरीर में प्रवेश कर सकते हैं और उस स्वस्थ मनुष्य में भी कोरोना वायरस संक्रमण फैल सकता है इससे बचाव के लिए एक ही तरीका है कि इंटरनेट बैंकिंग में जाकर एनईएफटी करें और बड़े दुकानदार जो हैं वह आरटीजीएस करें इस्तेमाल को 24 घंटे में आप किसी भी वक्त कर सकते हैं यह सुविधा बैंक अपने ग्राहकों के लिए 24 घंटे मुहैया कराती है

कोई आपको नोट दे रहा है तो आप नहीं पहचान सकते कि वह कोरोनावायरस पीड़ित है या नहीं है जब तक उसकी कोई जांच नहीं होगी आप से नहीं पहचान सकते सोच लो आप उससे करेंसी लेते हैं और वह एक कुरौना वायरस पीड़ित इंसान है आप जब उस नोट को छूते हैं तो वह बैक्टीरिया आपके हाथों में आएगा अगर आपका हाथ आपके नाक आपके आंख पर लगता है या मुंह पर लगता है तो वह बैक्टीरिया आपके शरीर में प्रवेश कर जाएगा और आप भी कोरोना वायरस की चपेट में आ जाएंगे इससे बेहतर होगा कि किसी नोट करेंसी को छुए तो छूने के बाद उस करेंसी को गिन कर किसी कागज में बांध कर रख दें और उसके बाद साबुन या सैनिटाइजर से अपने हाथ को रगड़ रगड़ कर दो लें इससे कोरोना वायरस से बचाव हो सकता है सावधान रहें नोटों के चूने के बाद अपने होठों अपने नाक पर हाथ ना लगाएं

यह संक्रमण तभी चलेगा जब हम किसी संक्रमण व्यक्ति के संपर्क में आएंगे