जानिए क्या है ? वायरल वीडियो की सच्चाई

एक वीडियो कल सुबह से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है व्हाट्सएप के ग्रुप में और लोग व्हाट्सएप पर एक दूसरे को यह वीडियो लगातार भेजे जा रहे है वीडियो एक महिला ने रिकॉर्ड किया है जिसमें दो पुलिसकर्मी मस्जिद के सामने एक मुस्लिम युवक से कहते हुए नजर आ रहे हैं कि मस्जिद में अजान नहीं होगी यह एलजी साहब का आर्डर है आप चाहें तो प्रेम नगर थाने में देख सकते हैं। वायरल वीडियो में महिला सिपाही से कहती हुई नजर आ रही है कि मस्जिद में अभी नमाज पढ़ने कोई भी नहीं जा रहा है और सब लोग घर पर नमाज पढ़ रहे हैं अगर मस्जिद में हाफिज साहब ही रहेंगे त आजान तो होगी ही। लेकिन पुलिसकर्मी और महिला में इस बात को लेकर जद्दोजहद होती है पुलिसकर्मी महिला से कहता है कि एलजी साहब का आर्डर है और उन्हीं ने हमें यहां भेजा है और मस्जिद में अजान नहीं होगी

उसके बाद महिला ने पुलिसकर्मी से कहा कि अगर आजान नहीं होगी तो हमें रोजे का समय कैसे पता चलेगा कैसे हम रोजा खोलेंगे । फिर उस महिला ने पुलिसकर्मी से कहा कि समाचार टीवी पर हम भी देखते हैं लेकिन ऐसा हमने कहीं नहीं सुना कि जिस पर आजान पर पाबंदी हो अगर पाबंदी है तो इकट्ठे होकर नमाज पर है । लेकिन नमाज तो लोग घर पर पढ़ रहे हैं मस्जिद में सिर्फ अजान हो रही है और मस्जिद में सिर्फ 5 लोग ही नमाज पढ़ रहे हैं। लेकिन फिर भी पुलिसकर्मी इसी बात पर अड़ा रहता है कि एलजी साहब का आर्डर है अगर आपको यकीन ना हो तो आप प्रेम नगर थाने जाओ वहां देखाओ। लेकिन फिर भी इस वीडियो में महिला कई बार कहती है कि जो आर्डर एलजी साहब ने दिया है बॉर्डर हमें दिखाओ जिन पुलिसकर्मी इस पर कहते हैं कि आप थाने प्रेम नगर जाओ और वहां देख आओ ।

जब सोशल मीडिया पर यह वीडियो तेजी से वायरल हुआ तो पत्रकार सबा नकवी ने इस वीडियो को लेकर ट्विटर पर कई सवाल उठाए

सलमान निजामी का यह ट्वीट

जब इस वीडियो को लेकर सोशल मीडिया पर सवाल उठने लगे की वीडियो में पुलिसकर्मी साफ करता हुआ नजर आ रहा है की अजान पर पाबंदी है यह एलजी साहब का ऑर्डर है। लेकिन जिसने भी यह वीडियो देखा उसने सोचा की अजान पर पाबंदी कैसी नमाज पढ़ तो पाबंदी है क्योंकि इकट्ठे होकर मस्जिद में नमाज नहीं पढ़ सकते क्योंकि उससे कोरोनावायरस का खतरा बढ़ सकता है लेकिन आज़ान से कैसी पाबंदी क्योंकि मुस्लिम लोगों अजान से ही रोजा रखते हैं और अजान से ही रोजा अफ़तार करते हैं । और उस महिला ने भी यही कहा कि अगर अजान नहीं होगी तो हमें पता कैसे लगेगा कि कितनी टाइम रोजा रखे और कितने टाइम रोजा इफ्तार करें।

वायरल वीडियो की सच्चाई

जब इस बारे में वीडियो की जानकारी दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनोज सिसोदिया के पास पहुंचती है तो दिल्ली के उपमुख्यमंत्री पर ट्वीट करते हुए कहते हैं दिल्ली की मस्जिदों में अजान पर कोई पाबंदी नहीं है और ना ही कोई ऐसा एलजी का आर्डर है हां यह जरूर है कि धार्मिक स्थल पर इकट्ठे होकर नमाज नहीं पढ़ सकते और ना ही पूजा कर सकते हैं । अगर आपको नमाज़ पढ़नी है या पूजा करनी है तो आप अपने घरों पर ही करें।

लेकिन अब इसी बीच दिल की पुलिस दिल्ली पुलिस के ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया जाता है जिसमें लिखा हुआ है कि 25 अप्रैल से रमजान का महीना शुरू हो रहा है इसमें सभी लोग लॉक डाउन का पालन करें घर पर ही नमाज अदा करें जो दिशानिर्देश दिल्ली पुलिस ने जारी किए हैं उसके तहत आजान भी दी जा सकती है और अजान पर कोई पाबंदी नहीं है।

जब इस वीडियो के बारे में खोजबीन शुरू की तो पता चला यह वीडियो रोहिणी का है रोहिणी के डिप्टी पुलिस कमिश्नर एचडी मिश्रा से वायरल वीडियो के बारे में पूछा तो उन्होंने जानकारी दी कि हमने उन पुलिसकर्मियों से कहा था कि इलाके की जितनी भी मस्जिदें हैं उनके मौलवियों को यह जानकारी पहुंचा दें कि मस्जिदों में इकट्ठा होकर नमाज ना पढ़ें। लेकिन पुलिसकर्मी के समझने में गलती हो गई पुलिसकर्मी ने समझ लिया कि नमाज और अजान दोनों पर पाबंदी लगाने को कह रहे हैं। इसीलिए वह वायरल वीडियो में महिला से अजान और नमाज को मना कर रहा था।

तो अब आपके समझ में आ ही गया होगा की अजान पर कोई रोक नहीं है बल्कि पुलिसकर्मी की समझ में गलत आ गया जिससे यह वीडियो वायरल हो गया आपको बता दें कि आज़ान पर कोई पाबंदी नहीं है बल्कि धार्मिक स्थलों पर नमाज या पूजा पर पाबंदी है आप लोगों से अनुरोध है कि इस खबर को ज्यादा से ज्यादा शेयर करके लोगों तक पहुंचाएं और नमाज घर पर ही अदा करें और लॉक डाउन का पालन करें जब तक कोई जरूरी काम ना हो घर से बाहर ना निकले।