अब इस पत्रकार के खिलाफ केरल पुलिस ने FIR दर्ज की है , पढ़ें पूरा मामला

आज जिस पत्रकार पर एफआईआर हुई है । वो गोदी मीडिया का मुख्य चेहरा है । आपको ऐसे ही बताएंगे यह पत्रकार गोदी मीडिया का वह स्थान है जो हर रोज अपने शो में प्रोपेगेंडा करते हैं और जब मोदी सरकार ने देश में नोटबंदी की थी और नोटबंदी की लाइन में गरीब पुलिस की लाठियां खा रहे थे लोगों ने अपनी जान भी दी थी तब यह पत्रकार 2000 के नोट में चित्र समझा रहा था। पत्रकार ने इस नोट के कई फायदे बताएं कि अगर इस धन को आप अंदर गड्ढे में भी दबा देंगे तो इसका सिंगल सीधा इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के पास पहुंच जाएगा और आप बच नहीं पाएंगे।

लेकिन पता नहीं समय बीतते बीतते इनकी चिप कहां चली गई। नोटबंदी के बाद भी कई घोटाले हुए कई लोग पैसा लेकर भाग गए लेकिन फिर भी इन की बताई गई चिप ने कोई काम नहीं किया। इस पत्रकार ने जब 2000 का नोट आया था तो उसकी इतनी तारीफ की थी कि बताई नहीं जा सकती। कि जब से मोदी सरकार बनी है तब से इस पत्रकार ने मोदी सरकार से सवाल तक नहीं किया है इसने पिछले 6 सालों से विपक्ष और मुस्लिमो को ही टारगेट किया है

पता नहीं भाई कैसे-कैसे न्यूज़ यह पत्रकार बनाते हैं अभी पिछले कुछ दिनों की बात है जब देश में कोरोना वायरस फैल रहा था तब इन्होंने अपने शो में कहा था कि अगर दुनिया में कोना वायरस फैल जाए तब लोग कहां जाएंगे तब इन्होंने अपने शो में जवाब दिया था कि अगर इतनी बुरी स्थिति आ जाए कि दुनिया में कहीं रहने लायक जगह ना हो तब अंतरिक्ष में बनाए गए होटल में कुछ दिन काटे जा सकते हैं अब इस पत्रकार से यह पूछा जाए कि गरीब सड़क पर पैदल चल रहे हैं अगर सरकारी बस में बैठ भी रहे हैं तो दुगना किराया देना पड़ रहा है। और यह पत्रकार नासा द्वारा बनाए गए होटल में भारत वासियों को रहने की सलाह दे रहा है । क्या भारत देश की इतनी क्षमता है कि नासा द्वारा बनाए गए अंतरिक्ष में होटल में रह पाए देखिए यह वीडियो।

यह वह पत्रकार हैं जिन्होंने तिहाड़ जेल में जाकर पत्रकारिता का नाम रोशन किया है। यह फिरौती वसूल करने के आरोप में तिहाड़ जेल काट कर आए हैं। लेकिन फिर भी रात के 9 बजे देश के लोगों पर प्राइम टाइम में डीएनए समझाते हैं। आप एक बार जरा सोचिए कि जो पत्रकार एक बार फिरौती वसूल करने के आरोप में जेल काट चुका हो वह कैसी खबरें चलाता होगा। जिस वक्त यह पत्रकार फिरौती वसूल करने के आरोप में तिहाड़ जेल गया था उस वक्त ज़ी न्यूज़ ने अपने न्यूज़ चैनल पर प्रेस की आजादी पर सवाल उठाए थे।

लेकिन अब इस पत्रकार के खिलाफ केरला पुलिस ने एफ आई आर दर्ज कर ली है क्योंकि इस पत्रकार ने अपने कार्यक्रम में जिहाद को लेकर वर्गीकरण किया था। और एक जात का चार्ट अपने कार्यक्रम में उन्होंने पेश किया था जिसमें कटर जिहाद बैचारिक ज़िहाद जनसंख्या जिहाद लव जिहाद तमाम तरीके के सभी ज़िहाद शामिल थे । इसके बाद इस पत्रकार ने अपने कार्यक्रम में जम्मू जमीन और जेहाद एक कार्यक्रम किया था और इन्होंने तमाम तरीके के ज़िहाद के प्रकार बताए थे। इस पत्रकार के इस कार्यक्रम में जिहाद के चार्ट के अनुसार इस ने मुस्लिमों को टारगेट किया था।

ये वही पत्रकार है जिसे शाहीन बाग में कश्मीर दिखाई देता है यह वही पत्रकार है जिसे 2000 के नोट में चिप दिखाई देती थी। और जब इस पत्रकार पर एफ आई आर हो जाती है तब यह किस तरीके से ट्विटर पर अपना दुख जाहिर करता हैं यह भी देखिए

लेकिन जरा सोचने और समझने की कोशिश कीजिए कि अगर आज तुमने झूठी खबरें और समाज को बांटने वाली खबरें ना चलाई होती तो आज आप पर FIR क्यों होती ।